उरी हमले के लिए मनमोहन सिंह जिम्मेदार : अर्णव गोस्वामी

Written by महेंद्र नारायण सिंह यादव | Published on: September 21, 2016
जम्मू और कश्मीर में उरी में आतंकवादी हमले के लिए क्या पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जिम्मेदार हैं? टाइम्स नाउ के एडीटर इन चीफ अर्णव गोस्वामी की मानें तो यह सही बात है। बकौल अर्णव मनमोहन इसलिए जिम्मेदार हैं क्योंकि वे 2013 में नवाज़ शरीफ से मिले थे।



उरी में अब तक 18 सैनिकों के मारे जाने की खबरों के बीच भारतीय जनता पार्टी की केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आलोचना के घेरे में हैं। चुनाव से पहले एक के बदले 10 सिर लाने के उनके वादे को याद कराया जा रहा है, और भाजपा के पास इसका कोई जवाब नहीं है।

ऐसे में भाजपा और संघ के लिए उरी में हुए हमले का बचाव करना मुश्किल हो रहा है, लेकिन टाइम्स नाउ के एडीटर इन चीफ अर्णव गोस्वामी ऐसे में भाजपा के बचाव में सामने आए हैं। अपनी विचित्र हरकतों और चीखने-चिल्लाने के लिए चर्चित अर्णव ने तर्क भी विचित्र दिया है और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को उरी के हमले के लिए दोषी ठहराया है।

सेवानिवृत्त लेफ्टीनेंट जनरल जैसवाल, टाइम्स नाउ के रेसीडेंट एक्सपर्ट मारूफ रज़ा, पूर्व सेनाध्यक्ष और अब आरएसएस के विचारक मेजर जनरल जी डी बक्शी और पूर्व राजनयिक जी पार्थसारथी जैसे गेस्ट की मौजूदगी में रविवार को अर्णव गोस्वामी ने अपने टीवी शो में उरी हमले की जिम्मेदारी पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर डाली।

शो का टॉपिक तो ये था कि क्या भारत को पाकिस्तान पर हमला करना चाहिए, लेकिन अपने भाजपा कनेक्शन के चलते खुद अर्णव बात को घुमाकर मनमोहन सिंह पर ले गए। अन्य अतिथियों ने तो भाजपा सरकार के इरादों में स्पष्टता की कमी की ओर इशारा किया लेकिन अर्णव ने इस हमले को मनमोहन सिंह की महान गलती का नतीजा बताया।

अर्णव ने कहा, “29 सितंबर, 2013 को मनमोहन सिंह ने न्यूयॉर्क में नवाज़ शरीफ के साथ घंटे भर की मुलाकात करके सबसे बड़ी गलती की थी। उसके कुछ ही दिन पहले जम्मू और कश्मीर के कठुआ और साँबा में दो आतंकवादी हमले हुए थे।”

अर्णव को इसी साल पठानकोट में हुआ हमला याद नहीं आया और 2013 के कठुआ और सांबा के हमले याद आ गए। अर्णव पूरी तरह से आरएसएस के वक्ता की तरह पेश आए और केंद्र सरकार द्वारा उरी हमले की कड़ी निंदा की तारीफ करते रहे।

ये कोई अचरज की बात नहीं। ये बात छिपी नहीं है कि अर्णव गोस्वामी के पिता मनोरंजन गोस्वामी 1998 में गुवाहाटी लोकसभा सीट पर भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़कर हार चुके हैं। उनके मामा सिद्धार्थ भट्टाचार्य असम भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष रह चुके हैं और इस समय गुवाहाटी ईस्ट से भाजपा के विधायक हैं।